किसान ऑनलाइन बेच सकेंगे फसल

Kisan can sell the crop online in any corner of the country. For this lab and control room at the cost of Rs 30 lakh has been prepared in the agricultural produce market. The scheme will be launched on 17th March.

ग्रामीण को किसानों को अब फसल बेचने में किसी प्रकार की कोई आढ़त नहीं देनी होगी, क्योंकि अब डबरा कृषि उपज मंडी राष्ट्रीय कृषि बाजार से जुड़ गई है। इससे किसाान देश के किसी भी कोने में फसल ऑनलाइन बेच सकता है। इसके लिए कृषि उपज मंडी में 30 लाख रुपए की लागत से लैब और कंट्रोल रूम भी बनकर तैयार हो गया है। इस योजना का शुभारंभ 17 मार्च को किया जाएगा।

जानकारी के अनुसार, डबरा कृषि उपज मंडी को ई-मंडी में शामिल करने के लिए राष्ट्रीय कृषि बाजार से जोड़ा गया है। इस योजना के तहत अब किसान ऑनलाइन कहीं पर भी फसल बेच सकता है। साथ ही उसे मंडी में बैठे-बैठे अन्य शहरों के चल रहे फसल के भाव भी पता लग सकेंगे। इसके लिए मंडी में 30 लाख रुपए की लगात से कम्प्यूटर कक्ष और कंट्रोल रूम तथा उपज की ग्रेडिंग के लिए टेस्टिंग रूम भी बनाया गया है। योजना के पहले चरण में किसान चना और मसूर की फसल ही बेच पाएंगे।

फसल बेचने के लिए यह करना होगा

किसानों जिस वाहन से फसल लेकर आएगा, तो गेट पर ही वाहन का नम्बर, किसान का नाम, फसल का सैंपल जमा करने के बाद उसका पंजीयन हो जाएगा। इसके बाद ऑप्शन हॉल में किसान के सामने ही सैंपल की टेस्टिंग कर फसल की ग्रेडिंग तय की जाएगी। ग्रेडिंग तय करने के बाद मंडी कर्मचारी ऑनलाइन पोर्टल पर जानकारी अपलोड करेंगे, फिर व्यापारी ऑनलाइन ही ग्रेड के हिसाब से फसल की बोली लगा सकते हैं। ग्रेडिंग जिंस, नमी, क्वालिटी और कचरे के आधार पर तय की जाएगी।

फसल बेचने के बाद तुरंत होगा भुगतान

फसल की नीलामी से लेकर खरीदारी करने वाले व्यापारी तक ग्रेड का माल पहुंचाने और भुगतान की गांरटी मंडी की ओर से बनाए गए लॉजिस्टिक डिर्पाटमेंट की होगी। किसान की फसल बिकने पर उसी दिन किसान को ऑनलाइन या कैशलेस भुगतान कर दिया जाएगा।

आढ़तियों से मिलेगी निजात

वर्तमान में किसान यदि अपनी फसल मंडी में लाता है तो किसान को आढ़तियों के माध्यम से फसल बेचनी पड़ती है। आढ़तियों को फसल का 3 प्रतिशत कमीशन देना होता था। ऑनलाइन फसल बेचने के बाद इसका फायदा सीधे ही किसानों को होगा। शनिवार को कंट्रोल रूम में मंडी अध्यक्ष मुकेश गौतम की ओर से निरीक्षण भी किया गया।

योजना होगा प्रचार-प्रसार

मंडी अध्यक्ष मुकेश गौतम ने बताया कि मंडी में किसानों को ऑनलाइन फसल बेचे जाने के लिए विभाग की ओर से प्रचार-प्रसार कराया जाएगा, ताकि किसानों को यह पता लग सके कि वह कैसे अपनी फसल को ऑनलाइन बेच सकता है।

Online sell